Ibn-E-Mariyam

इब्ने-मरियम

इब्ने-मरियम[1]

तुम ख़ुदा हो
ख़ुदा के बेटे हो
या फ़क़त[2] अम्न[3] के पयंबर[4] हो
या किसी का हसीं तख़य्युल[5] हो
जो भी हो मुझ को अच्छे लगते हो
जो भी हो मुझ को सच्चे लगते हो

इस सितारे में जिस में सदियों से
झूठ और किज़्ब[6] का अंधेरा है
इस सितारे में जिस को हर रुख़[7] से
रंगती सरहदों ने घेरा है

इस सितारे में, न जिस की आबादी
अम्न बोती है जंग काटती है

रात पीती है नूर मुखड़ों का
सुबह सीनों का ख़ून चाटती है

तुम न होते तो जाने क्या होता
तुम न होते तो इस सितारे में
देवता राक्षस ग़ुलाम इमाम
पारसा[8] रिंद[9] रहबर[10] रहज़न[11] बिरहमन शैख़ पादरी भिक्षु
सभी होते मगर हमारे लिये
कौन चढता ख़ुशी से सूली पर

झोंपडों में घिरा ये वीराना
मछलियाँ दिन में सूख़ती हैं जहाँ
बिल्लियाँ दूर बैठी रहती हैं
और ख़ारिशज़दा से कुछ कुत्ते
लेटे रहते हैं बे-नियाज़ाना[12] दम मरोड़े के कोई सर कुचले
काटना क्या ये भोँकते भी नहीं

और जब वो दहकता अंगारा
छन से सागर में डूब जाता है
तीरगी ओढ लेती है दुनिया
कश्तियाँ कुछ किनारे आती हैं
भांग गांजा चरस शराब अफ़ीम
जो भी लायें जहाँ से भी लायें
दौड़ते हैं इधर से कुछ साये
और सब कुछ उतार लाते हैं

गाड़ी जाती है अदल[13] की मीज़ान
जिस का हिस्सा उसी को मिलता है

तुम यहाँ क्यों खड़े हो मुद्दत से

ये तुम्हारी थकी-थकी भेड़ें
रात जिन को ज़मीं के सीने पर
सुबह होते उँडेल देती है
मंडियों दफ़्तरों मिलों की तरफ़
हाँक देती ढकेल देती है
रास्ते में ये रुक नहीं सकतीं
तोड़ के घुटने झुक नहीं सकतीं

इन से तुम क्या तवक़्क़ो रखते हो
भेड़िया इन के साथ चलता है

तकते रहते हो उस सड़क की तरफ़
दफ़्न जिस में कई कहानियाँ हैं
दफ़्न जिस में कई जवानियाँ हैं
जिस पे इक साथ भागी फिरती हैं
ख़ाली जेबें भी और तिजोरियाँ भी

जाने किस का है इंतज़ार तुम्हें

मुझ को देख़ो के मैं वही तो हूँ
जिस को कोड़ों की छाँव में दुनिया
बेचती भी ख़रीदती भी थी

मुझ को देख़ो के मैं वही तो हूँ
जिस को खेतों में ऐसे बाँधा था
जैसे मैं उन का एक हिस्सा था
खेत बिकते तो मैं भी बिकता था

मुझ को देख़ो के मैं वही तो हूँ
कुछ मशीनें बनाई जब मैंने
उन मशीनों के मालिकों ने मुझे
बे-झिझक उनमें ऐसे झौंक दिया
जैसे मैं कुछ नहीं हूँ ईंधन हूँ

मुझ को देखो के मैं थका हारा
फिर रहा हूँ युगों से आवारा

तुम यहाँ से हटो तो आज की रात
सो रहूँ मैं इसी चबूतरे पर

तुम यहाँ से हटो ख़ुदा के लिये

जाओ वो विएतनाम के जंगल
उस के मस्लूब[14] शहर ज़ख़्मी गाँव
जिन को इंजील[15] पढ़ने वालों ने
रौंद डाला है फूँक डाला है

जाने कब से पुकारते हैं तुम्हें

जाओ इक बार फिर हमारे लिये
तुम को चढ़ना पड़ेगा सूली पर

Ibn-E-Mariyam

tum Khudaa ho
Khudaa ke beTe ho
yaa faqat amn ke payam_bar ho
ya kisii kaa hasii.N takhayyul ho
jo bhii ho mujh ko achchhe lagate ho
mujh ko sachche lagate ho

is sitaare me.n jis me.n sadiyo.n se
jhuuTh aur kizb kaa andheraa hai
is sitaare me.n jis ko har ruKh se
ra.ngatii sarhado.n ne gheraa hai

is sitaare me,n jis kii aabaadii
amn botii hai jang kaaTatii hai

raat piitii hai nuur mukhaD.o.N kaa
subah siino.N kaa Khuun chaaTatii hai

tum na hote to jaane kyaa hotaa

tum na hote to is sitaare me.n
devataa raakashas Gulaam imaam
paarasaa rind rah_bar rah_zan
birehman shaiKh paadarii bhikshuu
sabhii hote magar hamaare liye
kaun cha.Dataa Khushii se suulii par

jho.NpaD.on me.n ghiraa ye viiraanaa
machhliyaa.N din me.n suuKhatii hai.n jahaa.N
billiyaa.N duur baiThii rahatii hai.n
aur Khaarish_zadaa se kuchh kutte
leTe rahate hai.n be-niyaazaanaa
dam maro.De ke ko_ii sar kuchale
kaaTanaa kyaa ye bho.Nkate bhii nahii.n

aur jab vo dahakataa angaaraa
chhan se saagar me.n Duub jaataa hai
tiiragii o.D letii hai duniyaa
kashtiyaa.N kuchh kinaare aatii hai.n
bhaang gaanjaa charas sharaab afiim
jo bhii laaye.N jahaa.N se bhii laaye.N
dau.Date hai.n idhar se kuchh saaye
aur sab kuchh utaar laate hai.n

gaa.Dii jaatii hai adal kii miizaan
jis kaa hissaa usii ko miltaa hai

tum yahaa.N kyo.N kha.De ho muddat se

ye tumhaarii thakii-thakii bhe.Den
raat jin ko zamii.n ke siine par
subah hote u.NDel detii hai
ma.Ndiyo.n daftaro.n milo.n kii taraf
haa.Nk detii Dhakel detii hai
raaste me.n ye ruk nahii.n sakatii.n
to.D ke ghuTane jhuk nahii.n sakatii.n

in se tum kyaa tavaqqo rakhate ho
bhe.Diyaa in ke saath chalataa hai

takate rahate ho us sa.Dak kii taraf
dafn jis me.n ka_ii kahaaniyaa.N hai.n
dafn jis me.n ka_ii javaaniyaa.N hai.n
jis pe ik saath bhaagii phiratii hai.n
Khaalii jebe.n bhii aur tijoriyaa.N bhii

jaane kis kaa hai intazaar tumhe.n

mujh ko deKho ke mai.n vahii to huu.N
jis ko ko.Don kii chha.Nv me.n duniyaa
bechatii bhii Khariidatii bhii thii

mujh ko deKho ke mai.n vahii to huu.N
jis ko kheto.n me.n aise baa.Ndhaa thaa
jaise mai.N un kaa ek hissaa thaa
khet bikate to mai.n bhii bikataa thaa

mujh ko deKho ke mai.n vahii to huu.N
kuchh mashiine.n banaa_ii jab mai.n ne
un mashiino.n ke maaliko.n ne mujhe
be-jhijhak un me.n aise jhau.Nk diyaa
jaise mai.n kuchh nahii.n huu.N ii.Ndhan huu.N

mujh ko dekho ke mai.n thakaa haaraa
phir rahaa huu.N yugo.n se aavaaraa

tum yahaa.N se haTo to aaj kii raat
so rahuu.N mai.n isii chabuutare par

tum yahaa.N se haTo Khudaa ke liye

jaao vo Vietnam ke jangal
us ke masluub shahar zaKhmii gaa.Nv
jin ko inziil pa.Dane vaalo.n ne
raund Daalaa hai phuu.Nk Daalaa hai

jaane kab se pukaarte hai.n tumhe.n

jaao ik baar phir hamaare liye
tum ko cha.Dhanaa pa.Degaa suulii par

  1.  मरियम का बेटा अर्थात ईसा मसीह
  2.  केवल
  3.  शांति
  4.  अवतार
  5.  सुन्दर कल्पना
  6.  झूठ
  7.  तरफ़
  8.  पवित्र
  9.  शराबी
  10.  मार्गदर्शक
  11.  लुटेरा
  12.  निश्चिंत
  13.  न्याय
  14.  सूली पर चढ़ाए गए
  15.  बाइबल